Mt. Everest (Pic Credit : Nivedita)

प्रतीक दृढ़ता का ।

Spread the love

पहाड़ों पर सफ़ेद मलमल बिछाए कोमल काया,
हाथ में धरो तो पिघल जाए यह माया ।
आसमान तक सफ़ेद चाँदी की परत ओढ़े, सितारों की तरह चमकता यह माया।
जैसे श्वेत रत्नों से सजा यह अटल काया,
दृढ़ता का संकल्प लिये मीलों तक खड़ा यह हिमालया ।

पवित्रता की शान, अचल आत्म सम्मान समान,
आत्मानुभूती की पहली झलक दर्शाता ,यही पैगाम है देता-
‘ सदा तू अपने आत्म शक्ति से सर उठा कर खड़ा रहे ,
सारी आँधी तेरे सामने शीश झुकायेंगे ‘ ।

फूल नहीं खिलते यहाँ, पानी भी बर्फ़ जैसे कड़क बन जाता यहाँ।
चाँद सितारे भी ऐसी स्थिरता देख फख्र  से दमकते जहाँ  ।
ऐसी दृढ़ता और संकल्प शक्ति की पहचान दुनिया में और कहाँ ।

Moral :- Just by appearance we may judge someone as gentle and weak,  but the real
determination and strength comes from the soul within.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *